(नानक दुखिया सब संसार) Nanak Dukhiya Sab Sansar

189
0
(नानक दुखिया सब संसार) Nanak Dukhiya Sab Sansar

जन्म जीवन नहीं है; जन्म केवल संभावना है। जीवन मिल भी सकता है, खो भी सकता है। जन्म दोनों के लिए द्वार बन सकता है–जीवन पाने के लिए भी, जीवन खोने के लिए भी। जन्म अपने में सिर्फ संभावना, पॉसिबिलिटी है। जन्म कुछ भी नहीं है, सिर्फ एक अवसर, एक ऑपरच्युनिटी है।

जीवन के विभिन्न पहलुओं पर ओशो द्वारा दिए गए सात अमृत प्रवचनों का अपूर्व संकलन

जो व्यक्ति भीतर जाएगा वह पाएगा कि वह स्वयं एक गहराई है जिसका कोई अंत नहीं है। शायद इसी डर से हम भीतर नहीं जाते हैं। शायद यही घबड़ाहट है, जो मनुष्य को बाहर-बाहर रखती है, भीतर नहीं जाने देती। हम तो छोटी सी गहराई से डरते हैं। पहाड़ के किनारे झांकने में प्राण

Listen More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Filter by Creator/Author

Filter by Language